Knowledge Management Centre

डिज़ाइन क्लासिक संग्रह

भारतीय सरकार के अनुरोध पर मॉडर्न आर्ट प्रदर्शिनी, न्यू यॉर्क ने एक प्रदर्शिनी "डिज़ाइन टुडे इन अमेरिका एंड युरोप" का आयोजन किया था | इस प्रदर्शिनी के ज़रिए यह एहसास हुआ के यह भारतीय नागरिको तक 1959 के प्रौद्योगिकीकरण की शुरुआत को बखूबी पहुचा सकती है| यह भारत के अनेक हिस्सों में प्रदर्शित हुई है| इसके पश्चात यह तय हुआ के इस प्रदर्शिनी की सारी वस्तुएं डिज़ाइन संग्रह के केन्द्र के तौर पर हमेशा के लिए भारत मे ही रखी जाएँगी | तब यह वस्तुएं एन. आई. डी. को दे दी गयी व आज तक यह संस्थान के ही आधिपत्य में ही है| यह संग्रह मुख्यतयः फर्निचर डिज़ाइन व दूसरे अंतरराष्ट्रीय डिज़ाइनर्स द्वारा बनाए गये काम को सराहता है| जैसे - यू. एस. से चार्ल्स ईम्स व ईरो सारिनें, फ्रॅन्स से ले कॉर्ब्यूसियर, जर्मनी से मार्स्ल ब्र्यूवर, लूड्विग माइस व वन देर रोहे, डेनमार्क से पौल कजएरहोलँ व हंस ज वेज्ञेर, स्वीडन से ब्रूनो मत्ससों| इस क्लासिक को ढ़ूंढ़ने का मुख्य उद्देश्य डिज़ाइन के उच्च कोटि के माँको से डिज़ाइन का अध्ययन करना व डिज़ाइनर्स को प्रोत्साहित करना है| यह युरोप व अमेरिका में रोज़मर्रा की ज़िंदगी के डिज़ाइन थे| यह इस बात पर भी ज़ोर देता है कि वस्तुएँ, तकनीक, डिज़ाइन प्रोसेस व सौंदर्य के विषय में डिज़ाइनर को किस प्रकार की मुश्किलें आती हैं| इनमें से कुछ डिज़ाइन अत्यंत कलात्मक, उत्कृष्ट व अत्यंत मनमोहक थी

देखने के लिए यहां क्लिक करें

© 2016 NATIONAL INSTITUTE OF DESIGN