डॉ. मिहिर भोले

डॉ. मिहिर भोले इंटरडिसिप्लिनरी डिज़ाइन अध्ययन के एसोसिएट वरिष्ठ संकाय और एनआईडी स्नातकोत्तर परिसर, गांधीनगर में स्नातकोत्तर साइन्स ऐंड लिबरल आर्ट्स के समन्वयक हैं। वे लिबरल आर्ट्स के विभिन्न विषयों के साथ मानविकी और सामाजिक विज्ञान के व्यापक क्षेत्र को कवर करते हैं जिसके रेंज के कुछ नाम है कंपैरटीव एस्थेटिक टू नरेटिव थियरीस, सांकेतिकता, अप्रोच टू इंडियन सोसाइटी, सार्वजनिक नीति और डिज़ाइन, मेटीरियल कल्चर, शहरीकरण और डिज़ाइन और अनुसंधान क्रियाविधि। इनका वर्तमान अनुसंधान रूझान का क्षेत्र "पब्लिक पॉलिसी और डिज़ाइन" है जिस पर शोध पत्र और लेख प्रकाशित किया है। मिहिर भोले सेप्ट यूनिवर्सिटी, अहमदाबाद से सामाजिक विज्ञान में अपनी पीएचडी और मानविकी और अंग्रेजी साहित्य में पटना विश्वविद्यालय से मास्टर की डिग्री प्राप्त किया है। इन्होंने क्रॉसडिसिप्लिनरी डॉक्टरेट शोध में जातिगत संघर्ष और सामाजिक न्याय के मुद्दे को शामिल किया है और विभिन्न राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय प्रकाशनों में प्रकाशित लेख, पुस्तकें और पत्रिकाओं के कई मुद्दों पर अनुसंधान किया है. इसके अलावा प्रमुख विदेशी और भारतीय संस्थानों में व्याख्यान दिए हैं जैसे कि यूनिवर्सिटी ऑफ अप्लाइड साइन्सस, नॉर्थवेस्टर्न स्विट्ज़रलैंड, नेशनल यूनिवर्सिटी सिंगापुर (एनयूएस), आईआईटी, दिल्ली यूनिवर्सिटी, पटना यूनिवर्सिटी और गुजरात यूनिवर्सिटी। इन्होंने तीन किताबें लिखी हैं कास्ट कॉन्फ्लिक्ट ऐंड सोशियल जस्टीस: द डिस्कोर्स और डिज़ाइन, लॅमबर्ट जर्मनी द्वारा प्रकाशित, डिज़ाइन संवाद (हिन्दी में) और यंग डिज़ाइनर्स 2010) दोनों एनआईडी द्वारा (संपादित) प्रकाशित। मिहिर "ग्राफिक डिज़ाइन और क्षेत्र-विशिष्ट कला में पाठ्यचर्या विकास"   पुस्तक के लिए एनसीईआरटी के सलाहकार पैनल में भी हैं। इनके शैक्षणिक और अनुसंधान रुझानो में पब्लिक पॉलिसी ऐंड डिज़ाइन, शहरीकरण, वैश्वीकरण, मीडिया स्टडीज, सामाजिक-राजनीतिक अनुसंधान और साहित्य शामिल हैं।

mihirb[at]nid [dot]edu

उत्तरदायित्व

  • संयोजक, साइंस ऐंड लिबरल आर्ट्स (पीजी परिसर)
© 2016 NATIONAL INSTITUTE OF DESIGN