शिल्पा दास

2004 के बाद से, शिल्पा दास एनआईडी में विज्ञान और लिबरल आर्ट्स की पढ़ाई की देख-रेख करती हैं। इन्हें शिक्षा, प्रकाशन, और स्वैच्छिक क्षेत्र में 18 वर्षों का संचयी कार्य अनुभव है। शिल्पा, एनआईडी में तुलनात्मक सौंदर्यशास्त्र, सांकेतिकता और संचार, भारतीय कला और संस्कृति, कथा सिद्धांत, पहचान और मनोवाद, सांस्कृतिक अध्ययन और शिल्प प्रलेखन पढ़ाती हैं। वर्तमान में, विकलांगता अध्ययन में अनुसंधान करने में इनकी रूची है। इन्हें विभिन्न आउटरीच और परामर्श परियोजनाओं में, विशेष रूप से विकलांग व्यक्तियों के लिए सम्मान के साथ रणनीतिक व्यवहार परिवर्तन पर एक परियोजना हैडीकैप इंटरनेशनल और स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग, गुजरात सरकार के लिए शामिल किया गया है। अनन्या, महिला और बाल विकास मंत्रालय के और संचार शक्ति के लिए भारतीय महिलाओं पर एक किताब लिखी है। सूचना संचार प्रौद्योगिकी और महिला सशक्तिकरण पर दूरसंचार विभाग, भारत सरकार के लिए भी एक किताब लिखी है। पिछले चार वर्षों के लिए, वे एक सहयोगी के साथ, कोन्स्टफाक्क विश्वविद्यालय, स्वीडन से संकाय सदस्यों के साथ भविष्य की भविष्यवाणी पर थिंक-टैंक का संचालन किया है। शिल्पा, भारतीय और पश्चिमी सौंदर्यशास्त्र के विविध विषयों, भारत में विकलांग महिलाओं के सामने आने वाली सामाजिक-सांस्कृतिक कलंक, भारतीय साहित्य और भारतीय दर्शन में विकलांग लोगों के वर्णन पर अक्सर बात-चीत करती हैं। इन्होंने सेप्ट, अहमदाबाद, आईआईटी बॉम्बे, न्यू यार्क, उत्कल विश्वविद्यालय, भुवनेश्वर, और एच.एच. कॉलेज ऑफ कॉमर्स, अहमदाबाद, मरिस्ट कॉलेज, न्यू योर्क पर लेक्चर दिया है। इन्होंने व्यापक रूप से शैक्षिक और लोकप्रिय पत्रिकाओं, पुस्तकों में अपना लेख प्रकाशित किया है। इन्हें कोलिन्स कोबिल्ड शब्दकोश, ब्रिटेन के लिए संपादकीय सलाहकार में शामिल किया गया है, और पूल, जो कि एक डिज़ाइन पत्रिका है, के सलाहकार मंडल में भी रखा गया है। शिल्पा एनआईडी के अनुसंधान एवं प्रकाशन विभाग द्वारा प्रकाशित दो प्रमुख प्रकाशनों "द ट्रेलिस” जो कि शोध आधारित पत्रिका है और “डी/ज़ाइंड” की सह-संपादक हैं। वर्तमान में, शिल्पा टाटा सामाजिक विज्ञान संस्थान, मुंबई से सामाजिक विज्ञान में पीएचडी कर रही हैं।

shilpadas[at]nid [dot]edu

उत्तरदायित्व

  • संयोजक, अंतर्विषयक डिज़ाइन अध्ययन
  • उपाध्यक्ष, पीएच.डी - शोध कार्यक्रम
© 2016 NATIONAL INSTITUTE OF DESIGN