डॉ. विक्रम सिंह परमार

डॉ विक्रम सिंह परमार राष्ट्रीय डिज़ाइन बिजनेस इनक्यूबेटर, अहमदाबाद (पालडी) के सीईओ, और राष्ट्रीय डिज़ाइन संस्थान (एनआईडी) में प्रोडक्ट डिज़ाइन विभाग में एसोसिएट वरिष्ठ डिज़ाइनर हैं। डॉ परमार को शोध और उभरते बाजारों के लिए उत्पादों और सेवाओं के विकास के क्षेत्र में यूरोपीय और दक्षिण एशियाई क्षेत्र में परामर्श, शिक्षण में एक दशक का अनुभव है। विशेष रूप से स्वास्थ्य और कचरा प्रबंधन के क्षेत्र में "व्यवहार परिवर्तन के लिए डिज़ाइन" के क्षेत्र में रुचि रखते हैं। इन्होंने, "ग्रामीण विकास के लिए आईसीटी उत्पादों और सेवाओं के विकास के लिए डिज़ाइन की रूपरेखा" पर नीदरलैंड के डेल्फ़्ट यूनिवर्सिटी ऑफ टेक्नॉलजी से औद्योगिक डिज़ाइन इंजीनियरिंग में पीएचडी की डिग्री प्राप्त की है। इन्होंने आईआईटी बॉम्बे, भारत से औद्योगिक डिज़ाइन में मास्टर्स, और पर्यावरण डिज़ाइन संस्थान, वल्लभ विद्यानगर, गुजरात से आर्किटेक्चर में स्नातक किया। वे नीदरलैंड के डेल्फ्ट यूनिवर्सिटी ऑफ टेक्नॉलजी में दो साल (2009-10) के लिए एक पूर्णकालिक सहायक प्रोफेसर और (2011-15 से दौरे तक) डिज़ाइन इंजीनियरिंग विभाग, औद्योगिक डिज़ाइन इंजीनियरिंग, संकाय के साथ अतिथि प्रोफेसर थे। वे भारत में, आईआईटी गांधीनगर और धीरूभाई अंबानी सूचना एवं प्रौद्योगिकी संस्थान में एक विजिटिंग फैकल्टी थे। डॉ परमार ने डिज़ाइन पहल संगठन में 'इमर्जिंग मार्केट' विषय की एक परियोजना के नेता के रूप में डच मंत्रालय के लिए सलाहकार, और (2010-12) “फिनोदे”-फ्रेम्वर्क फोर सस्टेनबल ऐंड यूज़र-ड्रिवन इनोवेशन्स इन द बॉटम ऑफ दा पिरामिड मार्केट्स" में केनिया, भारत और मोजाम्बिक के लिए बोर्ड के सदस्य बन कर सेवा की है। एनआईडी में शामिल होने से पहले डॉ परमार "सेंटर फॉर डिज़ाइन रिसर्च (सीडीआर), स्टॅन्फर्ड यूनिवर्सिटी" के साथ सहयोग में " वेंचर स्टूडियो - सेंटर फोर इनोवेटिव बिज़नेस डिज़ाइन, अहमदाबाद विश्वविद्यालय, गुजरात भारत में" एक संस्थापक संयुक्त निदेशक और एसोसिएट प्रोफेसर थे। वेंचर स्टूडियो पर एक संस्था बिल्डर के रूप में, इनका लक्ष्य (क) युवा उद्यमियों, छोटे मध्यम उद्यमों, और जमीनी स्तर पर नवीन आविष्कारों को उनके नवाचार को निखारने के लिए प्रोटोटाइप के निर्माण के डिज़ाइन और इंजीनियरिंग समर्थन प्रदान करने और उनकी व्यवहार्यता का निर्धारण करना, (ख) प्रासंगिक उद्यम पूंजीपति या व्यावसायिक घरानों को को नवीन आविष्कारों से जोड़कर टिकाऊ उद्यमों में उनके विचारों को परिवर्तित करना, (ग) भारत के नवीन आविष्कारों को एक उद्यमी के रूप में अपने कैरियर का पीछा करने के लिए प्रेरित करके एक मंच प्रदान करने के लिए था। वेंचर स्टूडियो में, डॉ परमार ने बारीकी से 35 उद्यमियों सोलह वाणिज्यिक रूप से व्यवहार्य उपक्रम के साथ परामर्शदाता के रूप मे काम किया है जैसे अर्बन फार्मिंग, शिक्षा, महिलाओं के स्वास्थ्य, संक्षिप्तीकरण उपकरण, भाषा मनोरंजन, सामाजिक कनेक्ट, कानून, और विशेष जरूरतों के साथ उपयोगकर्ताओं के लिए। वेंचर स्टूडियो एक नवाचार पारिस्थितिकी-प्रणाली के लिए वर्किंग मॉडल का प्रदर्शन कर रहा है जो देश के अन्य भागों में भी दोहराया जा सकता है। 16 स्टार्ट-अप में से, एक स्टार्ट-अप 4 मिलियन अमरीकी डालर के लिए ना इंक, सिलिकन वैली के द्वारा अधिग्रहण कर लिया। तीन स्टार्ट-अप अपनी पहली निवेश की खरीद की है। उनके शोध कार्य में वेंचर डिज़ाइन और उद्यमशीलता, डिज़ाइन फॉर रेड्यूसिंग इन्फोरमेशन पॉवर्टी, डिज़ाइन फॉर सोशियल चेंज के लिए उपभोक्ता व्यवहार, केपॅसिटी डेवेलपमेंट फॉर रूरल कम्यूनिटीस, सस्टेनबल लिविंग, अफोर्डबल टॉयलेट्स, स्मार्ट ऐंड सस्टेनबल आंबियेंट एन्वाइरन्मेंट्स, मेडिकल डिवाइसस फोर अफोर्डबल हेल्थ, ग्रासरूवूट्स इनोवेशन्स इन एग्रिकल्चर, वॉटर, ऐंड एजुकेशन डोमेन में अनुसंधान का आयोजन शामिल है। पर्सूयेसिव कंप्यूटिंग, बिहेवियरल चेंज इन रूरल हेल्थकेएर, केपॅसिटी डेवेलपमेंट और आइसीटी4डी के क्षेत्र में प्रकाशन किया है। इन्होंने कई स्नातकोत्तर थीसिस का निर्देशन किया है और वर्तमान में टीयूडी, नीदरलैंड से, दो पीएचडी छात्रों के शोध निर्देशक हैं। एनआईडी में इन्हें डिज़ाइन स्टूडियो, डिज़ाइन कार्यशाला, और डिज़ाइन इलेक्टिव विषयों में शामिल किया गया है। आईडीई, टीयू डेल्फ़्ट में उन्होंने जैसे इंटेग्रेटेड प्रॉडक्ट डिज़ाइन, ससटेनबिलिटी माइनर- एक्सप्लोर लैब, इंटरैक्शन ऐंड इलेक्ट्रोनिक्स, रिसर्च ऐंड डिज़ाइन, यूज़बिलिटी ऐंड री-डिज़ाइन, डिज़ाइन मॅनिफेस्टेशन, ऐंड अड्वान्स्ड प्रॉडक्ट डिज़ाइन विषय पढ़ाए हैं।

vikram_p[at]nid [dot]edu

उत्तरदायित्व

  • सीईओ, नेशनल डिज़ाइन बिज़नेस इनक्यूबेटर-अहमदाबाद
  • उपाध्यक्ष, पीएच.डी - अनुसंधान कार्यक्रम
  • अध्यक्ष, आईपीआर सेल
© 2016 NATIONAL INSTITUTE OF DESIGN