वी. रविशंकर

1986 में इंजीनियरिंग में डिग्री हासिल करने के बाद वी. रविशंकर प्रोडक्ट डिज़ाइन में एक स्नातकोत्तर डिप्लोमा के लिए एनआईडी में दाखिला लिया। बीस साल बाद, वे एक बार फिर से "डिज़ाइन फॉर रीटेल एक्सपीरियेन्स" अनुशासन में एक संकाय सदस्य के रूप में संस्थान में शामिल हुए। एनआईडी में रविशंकर, डिज़ाइन बेसिक्स, डिज़ाइन पद्धति, डिजिटल प्रोडक्ट डिज़ाइन, यूनिवर्सल डिज़ाइन मॉड्यूल, रीटेल स्टोर डिज़ाइन, और विषुयल मर्चेनडाइज़िंग में पाठ्यक्रम प्रदान करते हैं। इन्होंने एनआईडी यूनिवर्सल डिज़ाइन (यूडी) की पहल की और एक संयुक्त क्षमता केंद्र "यूनिवर्सल डिज़ाइन स्टूडियो" की स्थापना जर्मनी एप्लाइड साइंसेज के विश्वविद्यालय के सहयोग से सामग्री पैदा करने और भारत में यूनिवर्सल डिज़ाइन में डिज़ाइन शिक्षा और अनुसंधान के क्षेत्र में यूनिवर्सल डिज़ाइन के लिए पाठ्यक्रम तैयार करने के उद्देश्य के साथ की। इन्होंने 18 साल के लिए ऑब्जेक्ट और स्पेस के क्षेत्रों में काम किया है इस डोमेन में मोबाइल प्रौद्योगिकी वोइस इंटरफेस, प्रोडक्ट डिज़ाइन, रीटेल डिज़ाइन और विजुअल मर्चेंडाइजिंग, पैकेज डिज़ाइन फोर कन्ज़्यूमर प्रोडक्ट्स, और स्वदेशी शिल्प के क्षेत्र में डिज़ाइन और प्रशिक्षण। 2002-07 में अपने कार्यकाल के दौरान, विकास आयुक्त, हस्तशिल्प, भारत सरकार के कार्यालय के साथ पैनल में शामिल डिज़ाइनर के रूप में इन्होंने भारत भर में 300 से अधिक कारीगरों के लिए डिज़ाइन और विकास कार्यशालाओं का आयोजन किया। इन्होंने बीपीएल लिमिटेड, बीपीएल इनोविजन, रिलायंस वेब दुनिया और इन्फोसिस टेक्नोलॉजीज लिमिटेड के लिए एक सलाहकार के रूप में काम किया और सपिक समूह, चेन्नई, लेवी स्ट्रास भारत, एचएमटी वॉचस लिमिटेड, रायन डिज़ाइन, हैदराबाद और ओरियोल डिज़ाइन, नई दिल्ली के लिए काम किया है। रविशंकर यूनिवर्सल डिज़ाइन इन्डिया प्रिन्सिपल्स के निर्माण में एक सह-लेखक हैं। इन्हें 2006 में एनआईडी-बिजनेस वर्ल्ड डिज़ाइन उत्कृष्टता पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

ravi_s[at]nid [dot]edu

उत्तरदायित्व

  • संयोजक, एमएस एवं एमई डिज़ाइन क्लीनिक स्कीम का क्षेत्रीय केन्द्र, आर ऐंड डी परिसर
  • संयोजक, यूनिवर्सल डिज़ाइन
  • अध्यक्ष, यूनिवर्सल डिज़ाइन लैब
© 2016 NATIONAL INSTITUTE OF DESIGN